अलहम्द मसीह उसकी रहमत है

अलहम्द मसीह
उसकी रहमत है मुफ्त
रहमत है मुफ्त, रहमत है मुफ्त;
तुझ को, ऐ आसी,
वह मिलती है मुफ्त,
रहमत कसीर है और मुफ्त
गर उस पर लावे तू दिल से ईमान,
रहमत है मुफ्त, रहमत है मुफ्त;
मिलेगी ज़िन्दगी को बे-गुमान,
रहमत कसीर है और मुफ्त
यीशु मुनज्जी है ढूंढ़ता तुझे
ढूंढ़ता तुझे, ढूंढता तुझे,
रहमत और प्यार से बुलाता तुझे
अभी बुलाता तुझे

क्यों तू रहेगा गुनाह में गुमराह
रहमत है मुफ्त, रहमत है मुफ्त
प्यार से वह तुझ को बुलाता, घर आ
रहमत कसीर है और मुफ्त
रोशनी में आ ग़र तू है बीच ज़ुलमात,
रहमत है मुफ्त, रहमत है मुफ्त;
वह है मुन्तज़िर, कि दे आज नजात,
रहमत कसीर है और मुफ्त

देख, उसका रहम और उल्फत क्या खूब
रहमत है मुफ्त, रहमत है मुफ्त
करता है बाप से सिफारिश मरगूब,
रहमत कसीर है और मुफ्त
कर तौबा, और उसको दिल दे अपना;
रहमत है मुफ्त, रहमत है मुफ्त,
आ इस ही वक्त उसको रंज मत पहुंचा,
रहमत कसीर है और मुफ्त

पावेंगे मुआफ़ी जो लाते यक़ीन
रहमत है मुफ्त, रहमत है मुफ्त;
आ, तू अब हासिल कर दिली तस्कीन,
रहमत कसीर है और मुफ्त
वह है मुन्तज़िर और कहता इस आन,
रहमत है मुफ्त, रहमत है मुफ्त,
उसको कबूल कर ला तू ईमान
रहमत कसीर है और मुफ्त

Alahamd masih

Alahamd masih
usakee rahamat hai mupht
rahamat hai mupht, rahamat hai mupht;
tujh ko, ai aasee,
vah milatee hai mupht,
rahamat kaseer hai aur mupht
gar us par laave too dil se eemaan,
rahamat hai mupht, rahamat hai mupht;
milegee zindagee ko be-gumaan,
rahamat kaseer hai aur mupht
Yeshu munajjee hai dhoondhata tujhe
dhoondhata tujhe, dhoondhata tujhe,
rahamat aur pyaar se bulaata tujhe
abhee bulaata tujhe

Kyon too rahega gunaah mein gumaraah
rahamat hai mupht, rahamat hai mupht
pyaar se vah tujh ko bulaata, ghar aa
rahamat kaseer hai aur mupht
roshanee mein aa gar too hai beech zulamaat,
rahamat hai mupht, rahamat hai mupht;
vah hai muntazir, ki de aaj najaat,
rahamat kaseer hai aur mupht

Dekh, usaka raham aur ulphat kya khoob
rahamat hai mupht, rahamat hai mupht
karata hai baap se siphaarish maragoob,
rahamat kaseer hai aur mupht
kar tauba, aur usako dil de apana;
rahamat hai mupht, rahamat hai mupht,
aa is hee vakt usako ranj mat pahuncha,
rahamat kaseer hai aur mupht

Paavenge muaafee jo laate yaqeen
rahamat hai mupht, rahamat hai mupht;
aa, too ab haasil kar dilee taskeen,
rahamat kaseer hai aur mupht
vah hai muntazir aur kahata is aan,
rahamat hai mupht, rahamat hai mupht,
usako kabool kar la too eemaan
rahamat kaseer hai aur mupht

Share This